logo

रिश्तों की उलझी कहानी है पंख-ए डॉटर्स टेल – अनिल बेदाग

logo
रिश्तों की उलझी कहानी है पंख-ए डॉटर्स टेल – अनिल बेदाग

शिखर छूने की चाहत हर इंसान में होती है पर कई बार परिस्थितियां अनुकूल नहीं होती और ख्वाहिशें दबकर रह जाती हैं। ऐसी दशाएं समाज के एक बड़े वर्ग को झेलनी पड़ती हैं, पर अगर आपमें अटूट लगन और अदम्य इच्छाशक्ति है, तो रास्ते अपने आप खुलते चले जाते हैं। आज देश की नारी बुलंदियां छू रही है। देश के सर्चोच्च नेता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ मिशन के साथ आगे बढ़ते हुए नारी के बढ़ते कदमों का साथ दे रहे हैं। सिनेमा भी इसमें पीछे नहीं है।

नारी शक्ति पर आधारित महिलाप्रधान फिल्में लगातार हिट हो रही हैं क्योंकि अब दर्शकों को भी समझ आ गया है कि सिर्फ पुरूष ही फिल्म का हीरो नहीं है। नारी भी किसी हीरो की तरह अपना वजूद दिखाते हुए पूरी फिल्म का दारोमदार अपने कंघों पर ले रही है इसलिए नए निर्माता अब बेखौफ होकर वूमैन ओरिएंटेड फिल्में बनाने का रिस्क ले रहे हैं क्योंकि उन्हें पता है कि आज नारियां भी पुरूषों के साथ कदम से कदम मिलाकर ऊंची उड़ान भरना चाहती हैं। यशबाबू एंटरटेन्मेंट के बैनर तले बन रही फिल्म पंख-ए डॉटर्स टेल के जरिए निर्माता राजेंद्र वर्मा दर्शकों तक यह संदेश पहुंचाना चाहते हैं कि पुरूष समाज के कुछ दरिंदे-हैवान भले ही नारी की इज्ज़त के साथ खिलवाड़ कर उनके पंख काटने की कोशिश करें, पर कुदरत और कानून के आगे वो बच नहीं सकते। यही कुदरत इन हैवानों के सामने एक मज़बूत औरत को खड़ा करती है और ऐसे दोषी लोगों को अदालत के कटघरे में अपमानित करने के बाद उन्हें सलाखों के पीछे भेजती है। आज औरत लाचार नहीं, वकील और पुलिस अधिकारी भी है और कायर पुरूषों को सबक सिखाने का मादा रखती है। फिल्म पंख-ए डॉटर्स टेल महिलाओं के दबंग तेवर के साथ दर्शकों के बीच जल्द ही पहुंचने वाली है जिसमें नारी के विविध रूप देखने को मिलेंगे।

इसमें आपको द्रौपदी नहीं दिखेगी, जिसे पांडवों ने जुए में हरा दिया था। इस फिल्म में एक पुरूष द्वारा औरत को वस्त्रहीन करने की सज़ा खुद औरत ही देगी और भगवान कृष्ण के रूप में नारी अस्मिता को बचाने के लिए अदालत रूपी दरबार में उतरेंगे नए पात्र। कौन होंगे नारी अस्मिता के ये रक्षक! यह तो फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगा, पर इतना जरूर बता दें कि इस बार पंख की अदालत में एक कद्दावर वकील उलझा हुआ केस लड़ेगी और विरोधियों के होश उड़ाते हुए उन्हें करारा सबक सिखाएगी। फिल्म के निर्देशक हैं प्रेमराज और डीओपी अजय आर्य हैं। फिल्म में रागिनी दीक्षित, पारूल कौषिक, पूजा दीक्षित, सुरभि कक्क़ड़, मेहुल बुच, सुनील लहरी, राहुल चौधरी, आयुष शाह, सुधीर पांडे और निशिगंधा वाड की अहम भूमिकाएं हैं।

Print Friendly, PDF & Email

Comments are closed.

logo
logo
Powered by WordPress | Designed by Elegant Themes