logo

पूरे विश्व में जयश्रीराम होना चाहिये-  भुपेन्द्र विजय सिंह 

logo
पूरे विश्व में जयश्रीराम होना चाहिये-  भुपेन्द्र विजय सिंह 

निर्माता भुपेन्द्र विजय सिंह  की फिल्में आती हैं तो भोजपुरी दर्शको में गजब का उत्साह होता है। हरतरफ खुशी और देशभक्ती का जज्बा ।  उनकी पिछली फिल्म गदर बीते साल की सबसे बड़ी हीट फिल्म थी  अब उनकी नयी फिल्म का नाम है पाकिस्तान में  जयश्रीराम। जाहिर है ये एक  ऐसी फिल्म होगी  जो गदर की तरह  देशभक्ती की भावना तो बढ़ायेगी ही साथ ही स्वस्थ मनोरंजन भी करेगी। इसमें पर्याप्त मात्रा में रहस्य और रोमांच भी होगा। भुपेन्द्र विजय सिंह इस फिल्म का निर्माण बबलू एम गुप्ता के साथ मिलकर कर रहे हैं और निर्देशक हैं रमाकांत प्रसाद। यानि गदर की पूरी टीम फिर से एक साथ है। अच्छी बात है कि इसमें भोजपुरी के इन दिनों  प्रचलित मनोरंजक उपादानों का सहारा नहीं लिया गया है।  अपने कथ्य और चित्रण से बांधे रखेगी। निर्देशक ने दृश्यों का अपेक्षित गति दी है, जिससे उत्सुकता बनी रहेगी। ऐसा भुपेन्द्र विजय सिंह का दावा है।  पेश है

पाकिस्तान में जयश्रीराम को लेकर इस फिल्म के निर्माता भुपेन्द्र विजय सिंह से खास  बातचीत की उदय भगत ने ।
भुपेन्द्र जी  आपको नहीं लगता कि आपकी फिल्म पाकिस्तान में जय श्रीराम विवाद पैदा कर सकती है?
श्रीराम मयार्दा पुरुषोत्तम हैं, सिर्फ पाकिस्तान ही नही पूरी दुनिया मे जय श्री राम होना चाहिए, इसमे किसी को कोई आपत्ति या विवाद होने की कोई गुंजाइश ही नहीं है?

गदर और पाकिस्तान में जयश्री राम के बीच एक साल का  समय क्यों?
मेरी कोशिश है कि मेरी राजपूत फिल्म्स फैक्ट्री मे रोल्स रॉयस बने, नैनो नहीं, इसलिए पूरी तैयारी के साथ ही जय श्री राम शुरू की थी, ईद पर गदर रिलीज रिलीज हुई थी। मानसून मे शूटिंग संभव नहीं होती और सर्दियों मे हमने जय श्री राम शूट की, बीच मे मोनालिसा के बिग बॉस मे जाने और नोट बंदी की वजह से थोड़ा व्यवधान हुआ और इस फिल्म का वीएफएक्स भारत से बाहर किया गया है तो रिलीज में भी थोड़ा समय लग गया ।

इस फिल्म के बारे में बताईये?
. पाकिस्तान मे जय श्री राम आज के  सामाजिक मूल्यों पर आधारित एक प्रेम कहानी है, कैसे एक छिछोरा लड़का अपने देश और अपने प्रेम  के लिए हर हद पार कर जाता है, यह उसकी कहानी है ।

गदर सनी दियोेल की याद दिलाती थी । पाकिस्तान में जय श्रीराम किसकी याद दिलायेगी?
पाकिस्तान मे जय श्री राम आपको अपने पूर्वजों से मिले संस्कार और आदर्शों की याद दिलाएगी, शहीद ए आजम भगत सिंह और अशफाकुल्लाह खान के संकल्प की याद दिलाएगी, वीर अब्दुल हमीद और विक्रम बत्रा के बलिदान की याद दिलाएगी ।

इस फिल्म के संगीत के बारे में बताईये?

इस फिल्म का संगीत इसके निर्देशक रमाकान्त प्रसाद ने ही दिया है, सच ये है कि रमाकान्त जी को संगीत का जिम्मा देते वक़्त मै खुद भी नर्वस था, मगर जब आप इसका टाइटल सांग सुनेंगे तो कई दिनों तक सुनते ही रहेंगे और यही इसका यूएसपी होगा ।

पाकिस्तान में जयश्रीराम के प्रदर्शन की क्या तैयारी है?
.पाकिस्तान मे जय श्री राम का प्रदर्शन निर्देशक के मुताबिक होली मे होना था, मेरे विचार से रामनवमी मे होना था पर अब यह श्रीराम की इच्छानुसार 5 मई को रिलीज होगी ।

गदर टू की भी प्लानिंग बन रही थी उसका क्या हुआ?
इसके लिए मै पहले भी स्पष्ट कर चुका हूँ, आपके माध्यम से भी कह रहा हूँ की गदर 2 से मेरा कोई सम्बन्ध नही है, उसके बारे मे मै कुछ नही कह सकता ।

पाकिस्तान में जयश्रीराम फिल्म के निर्देशक रमाकांत प्रसाद के बारे में क्या कहेंगे?
रमाकांत प्रसाद को मै भोजपुरी का शोमैन कहता हूँ और उसका सबूत हैं उनके साथ मेरी पिछली 2 फिल्में जिद्दी आशिक और गदर । जय श्री राम की शुरूआत एक सामान्य फिल्म के तौर पर हुई थी पर यह रमाकान्त जी ही थे जिन्होंने मुझे कहा कि सर यह फिल्म गदर से ऊपर सोच कर बनाइये और जब मैंने इसका फर्स्ट रश देखा तो मुझे  ही यकीन हो गया कि यह एक बेहतरीन फिल्म बनी है ।

फिल्म के नायक विक्रांत के बारे मेंं क्या कहेंगे ?
जब मैने विक्रांत को लेकर फिल्म बनाने की योजना बनाई थी, उसी समय बहुत से लोग मुझे समझाने लगे थे कि  मै गलत कर रहा हूँ, आज वही लोग विक्रांत के साथ काम करने को उत्सुक हैं, इसके बाद कहने को बचा ही क्या है ?पर्सनालिटी हो या अभिनय, डांस हो या एक्शन, अनुशासन हो या समर्पण, विक्रांत मे सारे गुण हैं, बस समय की बात थी और शायद वह मेरे माध्यम से आना था ।

आपके बारे में कहा जाता है कि आप हल्के फुल्के माहौल में गंभीर काम  कराना जानते हैं? क्या कहेंगे?
मेरा मिजाज ही ऐसा है, कभी किसी चीज का प्रेशर नही लेता, सब काम आराम से करता हूं और नियत से हो या नियति से, ईश्वर का आशीर्वाद है कि सब अच्छे से हो जाता है ।

आपकी फिल्म गदर से पवन सिंह को आयरन मैन की उपाधि मिली थी। पाकिस्तान में जयश्रीराम से क्या उम्मीद करें?

पाकिस्तान में जय श्री राम से उम्मीद करता हूँ कि विक्रांत सिंह राजपूत को वो मुकाम हासिल होगा जो अभी तक नही हुआ था और अब उन्हे मै कोई उपाधि नहीं दूंगा, वो काम आप और दर्शक करेंगे ।

Print Friendly, PDF & Email

Comments are closed.

logo
logo
Powered by WordPress | Designed by Elegant Themes