logo

PALKEIN Song Eyelashes Reminiscent Of The 90s Mumbai

logo
PALKEIN Song Eyelashes Reminiscent Of The 90s Mumbai

PALKEIN reminiscent of the 90s Mumbai. Every company brings a new song in the festive season. So Zee Music Company also released a new song Palkein. This song is sung by Srijit in a sultry melodious voice. While this song reminded me of 90’s melody, Srijit’s voice reminisced Kumar Sanu.

The PALKEIN are decorated with melodious music by Nayaab Ali Khan, son of well-known musician Ghulam Ali. The romantic lyrics of the song are penned by Naveen Neer, who is giving peace to Ashiko, who is in love with love, every person who is in love will feel like his own. Sahil Akhtar Khan and Shweta Dubey are seen in the video of this song, who despite being new, have done a great job and have managed to feel fresh. This video has been directed by Nayaab G,but has been decorated with his choreography by Vikram Borade.

Vikram is the son of Jai Borade, who has worked as a choreographer in many hit films including the successful films like Maine Pyar Kiya, who has choreographed videos for many star singers in the past as well. Many films are also on his release. This song is getting good love and is getting one lakh views on the first day itself. The  release party of this song was held at Classic Raheja Club located in Andheri West. Where many well-known faces of the industry including actor-comedian Sunil Pal participated.

Everyone congratulated Nayaab  and his entire team. On this occasion everyone shared experiences related to this song. The music director of this song, Nayaab and producer Sargam thanked Zee Music and said that we will continue to make albums with Zee in future also.The event was anchored by Priyanjali Thakur.

PALKEIN Song Eyelashes Reminiscent Of The 90s Mumbai

United Sikhs Seek Commitment From NYPD Hate Crime Task Force To Curb Rising Hate Crime Against Sikhs

logo
United Sikhs Seek Commitment From NYPD Hate Crime Task Force To Curb Rising Hate Crime Against Sikhs

Anti-Sikh hate crime incidents increased by 82% in the US.

United Sikhs seek commitment from NYPD Hate Crime Task Force to curb rising hate crime against Sikhs.

New York, Sep 19, 2022 – United Sikhs team is going to meet New York state authorities to seek their commitment for a solution to stop the rising incidents of hate crime against Sikhs in the state.

Members of the organization visited a New Jersey resident Balwinder Singh, who was racially abused last month on the way back from New York. A stranger asked him to get out of his truck. He stepped out of the vehicle, assuming that the person needed some help, but the man started attacking him, referring to him as, “You are Bin Laden” and yelling, “Go back to your country”. “He then beat me and broke my jaw and teeth. I was shocked and helpless, bleeding profusely until the NYPD arrived and took me to a hospital,” Balwinder said.

Earlier this month, on September 7, an 82-year-old Sikh was beaten in New York while on his routine evening walk. In July, a 31-year-old Sikh was shot dead in his SUV. In April, a 71-year-old Nirmal Singh was attacked in Richmond Hill, and the assailant attacked two more Sikhs later.

Anti-Sikh hate crime in the US has been on the rise in the last few years. FBI data shows that anti-Sikh hate crime incidents increased by 82%, from 49 to 89, from 2019 to 2020. The increase in violence against the Sikhs is hurting our community across the US.

United Sikhs team members are going to meet with the authorities in New York to seek investigation and prosecution, in the case of Balwinder Singh, as hate crimes are based on nationality or appearance. They would seek from the authorities including the Office for the Prevention of Hate Crimes (OPHC) and NYPD Hate Crime Task Force to commit to finding a proactive solution to the problem of the rising pattern of hate crime and biases against the Sikhs community.

“While progress has been seen on legislative fronts in the last year, we are afraid that a deeply ingrained cultural and psychological bias against people, who don’t look like or dress like others requires a proactive policy, intercultural interactions, formal and informal training at different levels,” said Manvinder Singh, Advocacy Director, International Civil & Human Rights Advocacy (ICHRA). “The Sikh American contribution to the US culture, economy, and politics deserve attention in a way that effectively addresses the increasing hate crimes,” Dr. Henok Gabisa, United Sikhs Advocacy Director said.

“Not just Sikhs, members of all communities should feel safe and no one should be racially targeted. As a humanitarian and advocacy organization, we have been taking a multi-pronged approach to address these issues, so that people of any faith can reach out to us in case of racial abuse. As hate incidents against Sikhs in the US have spiked in recent times, our legal teams are seeking a commitment from concerned authorities and working with them to find a solution,” Gurpreet Singh, CEO of United Sikhs said.

United Sikhs seek commitment from NYPD Hate Crime Task Force to curb rising hate crime against Sikhs

Disclaimer: The facts and opinions appearing in the article do not reflect the views of Our Website And Editors  does not assume any responsibility or liability for the same. It Is By News Source From PR Agency

डॉ संदीप मारवाह लंदन में हुए सम्मानित

logo
डॉ संदीप मारवाह लंदन में हुए सम्मानित

प्रतिष्ठित मारवाह स्टूडियोज के अध्यक्ष डॉ संदीप मारवाह, नौ अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ एक बार फिर सम्मानित किए गए हैं। अब्दुल बासित सय्यद की अध्यक्षता में लंदन में रॉयल सोसाइटी ऑफ आर्ट्स में वर्ल्ड ह्यूमैनिटेरियन ड्राइव (WHD) द्वारा सबसे प्रतिष्ठित रीगल ब्रिटिश अवार्ड से उन्हें सम्मानित किया गया। उन्हें आरटी माननीय क्रिस फिलिप, ब्रिटिश संसद के सदस्य के संरक्षण में शिक्षा, मीडिया और मनोरंजन उद्योग में उनके अथक योगदान के लिए सम्मानित किया गया।

प्रतिष्ठित पुरस्कार त्रिनिदाद और टोबैगो के पूर्व राष्ट्रपति एच.ई. एंथनी कार्मोना एससी ओआरटीटी और एच.ई. एर्ना हेनिकॉट शॉएपगेस, लक्ज़मबर्ग संसद के पूर्व अध्यक्ष ने एक सुनियोजित समारोह में दिया, जिसमें छह महाद्वीपों में फैले चालीस से अधिक देशों के गणमान्य व्यक्तियों ने व्यवसायों के विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व किया।

डॉ मारवाह नोएडा फिल्म सिटी के संस्थापक हैं जो अब दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती फिल्म सिटी है। वह मारवाह स्टूडियोज के अध्यक्ष और एएएफटी यूनिवर्सिटी ऑफ मीडिया एंड आर्ट्स के संस्थापक चांसलर हैं। मारवाह 145 देशों के 20,000 से अधिक मीडिया पेशेवरों के शिक्षक और सबसे बड़ी संख्या में शार्ट फिल्मों के निर्माता हैं।

डॉ मारवाह ने दिल्ली में कॉमन वेल्थ खेलों के दौरान एक अविश्वसनीय विश्व रिकॉर्ड भी बनाया। वह बड़ी संख्या में फेस्टिवल्स के प्रमोटर और 7500 कार्यक्रमों के आयोजक हैं और फिल्म और संस्कृति पर्यटन के तहत 3 मिलियन लोगों को फिल्म सिटी में आकर्षित करने में सक्षम रहे हैं। संदीप मारवाह को दुनिया के 67 देशों ने अपना सांस्कृतिक राजदूत नामित किया है।

बता दें कि वर्ल्ड ह्यूमैनिटेरियन ड्राइव (WHD) 12 देशों में संचालन के साथ एक अंतर्राष्ट्रीय एनजीओ है, जिसकी स्थापना ब्रिटिश भारतीय वैश्विक शांति कार्यकर्ता, उद्यमी, लेखक, डॉ अब्दुल बासित सैयद द्वारा क्रॉयडन, यूके में की गई थी। WHD का लक्ष्य विश्व स्तर पर शांति, शिक्षा और व्यापार सद्भाव की पहल को बढ़ावा देना है।

WHD के कार्यक्रम, इवेंट्स, पहल विशेष रूप से महिलाओं, युवाओं, सबसे कमजोर और अल्पसंख्यक आबादी के उत्थान पर केंद्रित हैं।

खैर, WHD ने विभिन्न वैश्विक पहलों और मानवीय गतिविधियों के माध्यम से शांति, शिक्षा और व्यापार सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए दुनिया भर के विभिन्न लीडर्स, सरकारों और संगठनों के साथ सहयोग करके लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए काफी प्रगति की है।

इस आयोजन में इंटरनेशनल चैंबर ऑफ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री और वर्ल्ड पीस डेवलपमेंट एंड रिसर्च फाउंडेशन का सहयोग था।

बहुत बढ़िया डॉक्टर संदीप मारवाह..!!

डॉ संदीप मारवाह लंदन में हुए सम्मानित

Sanjay Mishra’s WOH 3 DIN Wins At Falcon International Fest In London Cementing Indian Feature Film’s Success On A Global Scale

logo
Sanjay Mishra’s WOH 3 DIN Wins At Falcon International Fest In London  Cementing Indian Feature Film’s Success On A Global Scale

With his masterful acting in his new and forthcoming movie “Woh Teen Din,” Sanjay Mishra is back to win our hearts. The movie has been screening at numerous film festivals, winning two international awards, one at the prestigious Falcon International Fest in London and the other at the Gold award from Latitude films. It has also received a lot of positive reviews.

Set in a remote village in Uttar Pradesh, Woh Teen Din is the story of a hardworking and innocent rickshawala called ‘Rambharose’. Completely in love with his daughter and wife, he’s committed to give them the best he can in life. One fine day he meets a mysterious man who rents his rickshaw out for three days taking him to various places leaving Rambharose very confused and worried. What ensues is a whirlwind tour of suspense, drama, crime, fear and emotions that will change the course of his life forever. Life is never the same again for Rambharose after those three days.

Directed by Raaj Aashoo and produced by Indiancinephile, Pancham Singh, Aminor Creation Pvt. Ltd, the film also stars the talented cast of Sanjay Mishra, Chandan Roy Sanyal, Rakesh Sharma, Payel Mukherjee, Rakesh Shrivastava, Ram Singh Rajput and Purva Parag.

As of now, only the film’s poster has been shared and the movie is all set to hit our laptop screens on 30th September. But considering the starcast, we are already excited for the film and can’t wait for all the great reviews it is going to get.










Sanjay Mishra’s WOH 3 DIN Wins At Falcon International Fest In London  Cementing Indian Feature Film’s Success On A Global Scale

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत, जय पटेल व अभिषेक दुधैया द्वारा निर्मित फिल्म ‘आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग’ की विशेष स्क्रीनिंग

logo
संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत, जय पटेल व अभिषेक दुधैया द्वारा निर्मित फिल्म ‘आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग’ की विशेष स्क्रीनिंग

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और जय पटेल और अभिषेक दुधैया द्वारा निर्मित, दिल और रूह को झिंझोड़ देने वाली हॉलीवुड की शॉर्ट फिल्म, ‘आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग’ की स्पेशल स्क्रीनिंग मुम्बई के पीवीआर सिनेमा में

रखी गई तो यहां आए सभी मेहमानों, पत्रकारों और फिल्म समीक्षकों को इस रियलिस्टिक सिनेमा ने अवाक कर दिया। इस अवसर पर निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया के अलावा गेस्ट्स में अभिनेत्री मंदाकिनी,  पवन शंकर, लिन लैशराम, जहांगीर खान संगीतकार राशिद खान उपस्थित थे। फ़िल्म ने सभी को हिला कर रख दिया।

यह फ़िल्म सीरिया के एक 5 वर्षीय लड़के की वास्तविक कहानी पर आधारित है, जिसने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। उसके अंतिम अल्फ़ाज़ बेहद मार्मिक थे -आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग’ ‘मैं ऊपरवाले को सब कुछ बताने वाला हूँ।”

फ़िल्म दिखाने से पहले संजय दत्त का एक वीडियो दिखाया गया जिसमें उन्होंने फिल्म का पोस्टर लांच किया और कहा कि दुनिया मे शांति की जरूरत है और फ़िल्म यही सन्देश देती है।

कई पुरस्कार विजेता इस फिल्म के सह-निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया का निर्माण और निर्देशन किया था। उन्होंने कहा कि युद्ध होने से सबसे अधिक प्रभावित महिलाएं और बच्चे होते हैं, हालांकि उनका युद्ध से कोई लेना-देना नहीं है। फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है, एक बच्चे के आखिरी शब्दों से मैं हिल गया और इसलिए हमने शॉर्ट फिल्म के जरिए उसकी कहानी बताने का फैसला किया।”

नॉर्वे फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ शार्ट फिल्म पुरस्कार की विजेता, ‘आई एम गोइंग टेल गॉड एवरीथिंग’ कैथरीन किंग द्वारा लिखित और जे पटेल द्वारा निर्मित है। इस पुरस्कार विजेता लघु फिल्म को गोवा में 50वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में विशेष स्क्रीनिंग के लिए चुने जाने का सम्मान भी प्राप्त है।

निर्माता जय पटेल ने कहा, “मैं दुनिया को एक बड़े समुदाय के रूप में देखता हूं, और कहानी कहने की कला लोगों को एक दूसरे से जोड़ सकती है। मैं ऐसी कहानियां बताना चाहता हूं जो पहले नहीं सुनी गई हैं।फ़िल्म देखने वालों में से कई की फिल्म के अंत में आंखें नम हो गईं। मैं दुनिया में इस तरह के मुद्दों को फ़िल्म के द्वारा उठाऊंगा।”

अभिषेक दुधैया ने बताया कि अहिंसा के पुजारी और शांति दूत गांधी जी के जन्मदिन के अवसर पर 2 अक्टूबर को यह फ़िल्म यूटयूब पर रिलीज होगी।

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत, जय पटेल व अभिषेक दुधैया द्वारा निर्मित फिल्म ‘आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग’ की विशेष स्क्रीनिंग

भारत के लिए गौरवशाली पल – इमेजिन मार्केटिंग (बोट की जनक कंपनी) पिछली 7 तिमाहियों से लगातार टॉप 5 ग्लोबल वियरेबल कंपनियों में शामिल

logo
भारत के लिए गौरवशाली पल – इमेजिन मार्केटिंग (बोट की जनक कंपनी) पिछली 7 तिमाहियों से लगातार टॉप 5 ग्लोबल वियरेबल कंपनियों में शामिल
  • टॉप 5 ग्लोबल वियरेबल कंपनियों में, इमेजिन मार्केटिंग वित्त वर्ष’22 की दूसरी तिमाही में +76.6% की धनात्मक वर्ष-दर-वर वृद्धि के साथ सबसे तेज़ी से बढ़ने वाली कंपनी है
    • इमेजिन मार्केटिंग ने जुलाई-22 में 31% बाजार हिस्सेदारी के साथ भारतीय वियरेबल्स बाजार में भी अपनी नेतृत्वकारी स्थिति को मजबूत किया हैराष्ट्रीय, 22 सितंबर, 2022
    अग्रणी बाजार शोध और परामर्शदाता संस्था, इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) वर्ल्डवाइड क्वार्टरली वियरेबल डिवाइस ट्रैकर Q2CY2022 के अनुसार, बोट की जनक कंपनी – इमेजिन मार्केटिंग दुनिया में 5वें स्थान पर है। इसके अलावा, आईडीसी इंडिया मंथली वियरेबल डिवाइस ट्रैकर, अगस्त 2022 के अनुसार, इमेजिन मार्केटिंग ने लगातार तीसरे वर्ष (कैलेंडर वर्ष 20, 21, 22 ईयर टू डेट) भारत में समग्र वियरेबल्स श्रेणी में अपनी प्रमुख स्थिति बरकरार रखी है। ब्रांड के पास अच्छी तरह से डिजाइन किए गए, स्वदेशी एवं विशिष्ट जीवनशैली-उन्मुखी एवं आकर्षक कीमतों पर उपलब्ध उत्पादों का विस्तृत पोर्टफोलियो है।इमेजिन मार्केटिंग जुलाई 2022 में 40% से अधिक बाजार हिस्सेदारी के साथ टीडब्ल्यूएस श्रेणी में अग्रणी है। यह अभूतपूर्व वृद्धि उपलब्धता, किफायतीपन, बेहतर सुविधाओं और कार्यात्मकताओं जैसे एएनसी, नई डिजाइनों और गेमिंग के लिए निम्न-लैटेंसी मोड के बल पर हासिल हुई है। इमेजिन मार्केटिंग के लिए वॉच-आधारित वियरेबल्स भी सबसे तेजी से बढ़ने वाली श्रेणी है, जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में> 145% की वृद्धि (वर्ष 2021 की पहली छमाही बनाम वर्ष 2022 की पहली छमाही) मजबूत वृद्धि हुई है। किफायती होने के अलावा, ब्लूटूथ कॉलिंग, बड़े स्क्रीन आकार और एमोलेड डिस्प्ले जैसे फीचर्स प्रथम उपयोगकर्ताओं और अपग्रेडर्स दोनों को आकर्षित कर रहे हैं।
    इमेजिन मार्केटिंग (बोट की जनक कंपनी) त्योहारी बिक्री के मौसम को लेकर उत्साहित है और इसे अपने विस्तृत उत्पाद पोर्टफोलियो की मांग बढ़ने की उम्मीद है जो सकारात्मक उपभोक्ता भावना, किफायतीपन और इसके उपकरणों के बेहतर फीचर्स पर आधारित है। इसके अलावा, त्योहारी अवधि के दौरान, लोग उपहार देने के उद्देश्य से बोट स्मार्टवॉच और टीडब्ल्यूएस उपकरणों को अच्छे विकल्प के रूप में भी देख रहे हैं। जैसे-जैसे ‘मेक इन इंडिया’ का स्तर बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे यह ब्रांड उत्पादों को तेजी से और कम कीमतों पर लॉन्च करने में सक्षम बन रहा है। ब्रांड ने अपनी मेक इन इंडिया रणनीति के तहत वित्त वर्ष 2013 की पहली छमाही में 6 मिलियन इकाइयों के निर्माण की योजना बनाई है।
    कंपनी की मजबूत ओमनीचैनल रणनीति है, और इसके उत्पाद अमेज़ॅन इंडिया, फ्लिपकार्ट, मिंत्रा, पेटीएम, और व अन्य सहित विभिन्न बाजार स्थलों पर उपलब्ध हैं। यह ब्रांड 20,000 से अधिक स्टोर्स में उपलब्ध है, जिसमें विजय सेल्स, क्रोमा, रिलायंस डिजिटल, और कई अन्य शामिल हैं। उपभोक्ता इसकी वेबसाइट https://www.boat-lifestyle.com/पर भी ब्रांड के व्यापक पोर्टफोलियो को देख सकते हैं।
    वैश्विक मान्यता के बारे में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, अमन गुप्ता, सह-संस्थापक और सीएमओ, बोट ने कहा, “डिजाइन, नवाचार और ग्राहकोन्मुखता हमारे व्यवसाय के लिए महत्वपूर्ण हैं। हमारे ब्रांड की सफलता का श्रेय हमारी फुर्ती, तेजी से नवाचार चक्र और हमारे बोटहेड्स के जरिए प्राप्त विचारों एवं सुझावों पर लगातार ध्यान देते हुए उन्हें अमल में लाने को दिया जा सकता है। हम वर्षों से ग्राहकों द्वारा दिए गए विश्वास और समर्थन से अभिभूत हैं। यह सभी भारतीयों के लिए गर्व का क्षण है क्योंकि यह वैश्विक स्तर पर घरेलू ब्रांडों की बढ़ती स्वीकार्यता को प्रमाणित करता है। हमारी सरकार के समर्थन से, हमारा लक्ष्य एक वैश्विक लाइफस्टाइल ब्रांड बनना होगा। बोट, मिलेनियल्स की आवश्यकताओं को समझता है और बोटहेड्स कम्युनिटी की सेवा करने के लिए हम लगातार अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करते रहेंगे।”
    वित्तीय वर्ष 2022 की पहली तिमाही के बाद से, रॉकर्ज, बासहेड्स, और एयरडोप्स उत्पाद श्रेणियों के साथ-साथ एक्सेसरीज़ (केबल और पावर बैंक सहित) के भीतर कई बोट उत्पादों का निर्माण भारत में किया जा रहा है। बोट के “मेक इन इंडिया” पहल के तहत उपलब्ध मौजूदा उत्पादों में बोट बासहेड्स 100, बासहेड्स 192, बासहेड्स 225, रॉकर्ज 255 प्रो, रॉकर्ज 235v2, एयरडोप्स 131, एयरडोप्स 101, एयरडोप्स 441, पावर बैंक, चार्जिंग केबल और पावर ब्रिक्स शामिल हैं।

भारत के लिए गौरवशाली पल – इमेजिन मार्केटिंग (बोट की जनक कंपनी) पिछली 7 तिमाहियों से लगातार टॉप 5 ग्लोबल वियरेबल कंपनियों में शामिल

परवेझ दमानिया आणि रतन लुथ हे भारतातील प्रख्यात छायाचित्रकारांच्या लेन्समधून पंढरपूर वारीची अप्रतिम छायाचित्रे ‘द ग्रेट पिलग्रिमेज, पंढरपूर’ या नावाने घेऊन आले आहेत

logo
परवेझ दमानिया आणि रतन लुथ हे भारतातील प्रख्यात छायाचित्रकारांच्या लेन्समधून पंढरपूर वारीची अप्रतिम छायाचित्रे ‘द  ग्रेट पिलग्रिमेज, पंढरपूर’  या नावाने घेऊन आले आहेत

मुंबई- ८०० वर्षांच्या श्रद्धेची परंपरा असलेली पंढरपूरची वारी केवळ भारतातच नव्हे तर जगभरात प्रसिद्ध आहे. या श्रद्धेची परंपरा असलेल्या वारीत राज्यभरातील दहा लाखांहून अधिक वारकरी दरवर्षी पावसाळ्याच्या सुरुवातीला २१ दिवसांहून अधिक काळ पायी चालत पंढरपुरच्या विठुमाऊलीच्या मंदिरात पोहोचतात. गांधी टोप्या घातलेले पुरुष, डोक्यावर तुळस असलेल्या कुंड्या घेतलेल्या, रंगीबेरंगी साड्या नेसलेल्या स्त्रिया, दिंड्यांचे नेतृत्व करणारे शूर घोडे, भगवे झेंडे, पालख्या, वीणा, मृदंग, ढोलकी आणि चिपळ्यांचा भक्तिपूर्ण आवाज, फुगडीची उर्जा. पांडुरंगाची भेट होणार या आनंदात ऊन-पावसाची तमा न करता नाचत, गाणी म्हणत पंढरपूरला जाणाऱ्या, रस्त्याने जाताना मोसमातील बिया रस्त्यावर पेरून प्रवास करणाऱ्या साध्या-सोप्या लोकांची अशी ही पंढरपुरची वारी अनेकांच्या आकर्षणाचा विषय आहे.

जात-पात, पंथ, श्रीमंत-गरीब असा काहीही भेद न करता सगळे भक्त केवळ विठुरायाच्या दर्शनासाठी पंढरपुरकडे कूच करीत असतात. अशा या वारकऱ्यांचा हा प्रवास यापूर्वी अनेक छायाचित्रकारांनी कॅमेऱ्यात कैद केलेला आहेच. पण हा संपूर्ण प्रवास फार कमी वेळा छायाचित्रकारांनी कव्हर केलेला आहे.

परोपकारी आणि कला संग्राहक परवेझ दमानिया आणि रतन लथ, देशभरातील नामवंत छायाचित्रकारांच्या लेन्समधून अप्रतिम छायाचित्रांच्या माध्यमातून पंढरपूरच्या वारीचा संपूर्ण प्रवास दाखवणारे ‘द ग्रेट पिलग्रिमेज, पंढरपूर’ नावाने एक प्रदर्शन भरवत आहेत.

“वारी हा पृथ्वीवरील सर्वात प्राचीन आणि शक्तिशाली भक्तीमय प्रवास आहे.  काही वर्षांपूर्वी मी वारीचा प्रवास केला आणि मंत्रमुग्ध झालो. त्या मंत्रमुग्ध क्षणांना सोबत घेऊनच मी घरी आलो. मी सतत वारीबाबतच विचार करू लागलो होतो. मग मी याबाबत रतन लथ यांच्याशी बोललो आणि आम्ही वारीबाबत काय करता येईल याचा विचार सुरु केला. तेव्हाच वारीच्या फोटोंचे प्रदर्शन भरवावे असे आम्हाला वाटले आणि आम्ही त्यादृष्टीने प्रयत्न सुरु केले. आमच्या सुदैवाने आम्हाला सर्वोत्कृष्ट छायाचित्रकारांची एक टीम मिळाली आणि ही छायाचित्रे समोर आणता आली.” असे परवेझ दमानिया यांनी या प्रवासामागील माहिती देताना सांगितले.

प्रख्यात छायाचित्रकार पद्मश्री सुधारक ओलवे, लेन्समन शंतनू दास, महेश लोणकर, पुबारूण बसू, मुकुंद पारके, सौरभ भाटीकर, डॉ. सावन गांधी, प्रणव देव, राहुल गोडसे आणि धनेश्वर विद्या यांच्यासह सिम्बायोसिसचे प्रा. नितीन जोशी, दीपक भोसले आणि शिवम हरमळकर यांनी नामवंत छायाचित्रकारांची एक टीम तयार केली. या टीमने वारकऱ्यांच्या श्रद्धा, दंतकथा, इतिहास आणि परंपरा यांचे हे कालातीत क्षण कॅमेऱ्यात कैद केले. भक्तीरसाची ही झेप यशस्वी व्हावी म्हणून महाराष्ट्र सरकारच्या पर्यटन मंत्रालयाने या उपक्रमाला सहकार्य केले.

२१ दिवसांची पदयात्रा हा काही सोपा प्रवास नाही आणि वारकऱ्यांच्या श्रद्धेची झेप पकडण्याची ही छायाचित्रे काढण्याची यात्राही सोपी नव्हती. उपलब्ध सूर्यप्रकाश किंवा संधीप्रकाशात वारकऱ्यांचे खरे मूड टिपणे सोपे नव्हते. वारकऱ्यांना पोज देण्यासही सांगू शकत नव्हतो. त्यांची प्रत्येक गोष्ट कॅमेऱ्यात टिपणे म्हणजे एक आव्हान होते आणि मानसिक कणखरपणाचा कस लागत होता. या छायाचित्रकारांनी या सर्व गोष्टींवर मात करीत वारीची अप्रतिम छायाचित्रे काढली आहेत. ही फोटो डॉक्युमेंटरी वारकऱ्यांचा प्रत्येक क्षण लोकांसमोर सादर करणारी आहे.” असेही दमानिया यांनी सांगितले.

परवेझ दमानिया आणि रतन लथ यांनी महाराष्ट्र सरकारच्या पर्यटन संचालनालयाच्या संयुक्त विद्यमाने तयार केलेले ‘द ग्रेट पिलग्रिमेज – पंढरपूर’ हे प्रदर्शन २७ ते ३० सप्टेंबर रोजी सकाळी १० ते रात्री ८ या कालावधीत पिरामल गॅलरी ऑफ फोटोग्राफी, एनसीपीए येथे सुरु होणार आहे.

परवेझ दमानिया आणि रतन लुथ हे भारतातील प्रख्यात छायाचित्रकारांच्या लेन्समधून पंढरपूर वारीची अप्रतिम छायाचित्रे ‘द  ग्रेट पिलग्रिमेज, पंढरपूर’  या नावाने घेऊन आले आहेत

Parvez Damania Transforms Passionate Photographers Into Pandharpur Pilgrims With Purpose This World Tourism Day

logo
Parvez Damania Transforms Passionate Photographers Into Pandharpur Pilgrims With Purpose  This World Tourism Day

This World Tourism Day, Art collector Parvez Damania and Ratan Luth bring to you a fabulous photographic capture of the Pandharpur Wari through the lens of some of India’s most acclaimed photographers titled ‘The Great Pilgrimage- Pandharpur’

The Pandharpur Wari boasts of an 800-year-old tradition of faith with over a million pilgrims or Warkaris travelling every year on the onset of monsoon for over 21 days on foot to reach the Vithoba temple.  One witnesses men in Gandhi caps, women in colourful saris with tulsi pots on their heads, gallant horses leading the dindis,  saffron flags, palkis,  the devout sound of veena, mridanga, dholki and chipli, the energy of the fugdi – the beauty of simple people travelling after sowing the seeds for the season  dancing and singing their way to Pandharpur on foot braving the sun and the rains in joy to meet Lord Panduranga.

This flow of humanity in an unparalleled pilgrimage that breaks the barriers of caste, creed, rich and poor, may have been covered in parts but never in its entirety by photojournalists.

Art collectors Parvez Damania and Ratan Luth bring to you a fabulous photographic capture of the Pandharpur Wari through the lens of some of India’s most acclaimed photographers titled ‘The Great Pilgrimage – Pandharpur’.

“The Wari is one of the most ancient and powerful pilgrimages on Earth. I travelled the Wari a few years back and brought home the mesmeric moments. They haunted my mind and I spoke to Ratan Luth and together we got a team of the best photographers, and walked with the photographers on foot for ten days to capture the essence of the Wari,” elaborates Parvez Damania.

Revered photojournalist Padma Shri Sudharak Olwe, ace Lensmen Shantanu Das, Mahesh Lonkar, Pubarun Basu, Mukund Parke, Saurabh Bhatikar, Dr. Sawan Gandhi, Pranav Deo, Rahul Godse and Dhaneshwar Vidya, along with Prof Nitin Joshi, Deepak Bhosle and Shivam Harmalkar from Symbiosis University formed the team that captured these timeless moments of faith, legend, history and tradition of the Warikars in their frozen frames. The Ministry of Tourism, Government of Maharashtra joined hands to make this leap of faith possible.

The 21-day Padyatra is no easy journey and the yatra to capture the Warkaris’ leap of faith was no easy journey either. “The colourful adventure made each of us mentally strong and fearless but the images that allowed real emotions to come through with the absence of posing and in available light have created an amazing photodocumentary that captures people living every moment,” elaborates Damania.

‘The Great Pilgrimage – Pandharpur’, curated by Parvez Damania and Ratan Luth in association with the Directorate of Tourism, Government of Maharashtra, is on at the Piramal Gallery of Photography as an Art Form, NCPA, from September 28- 30, 10am to 8pm. The launch will be on World Tourism Day, September 27 evening at the gallery.

Parvez Damania Transforms Passionate Photographers Into Pandharpur Pilgrims With Purpose  This World Tourism Day

Social Events In A Friend In Need Group In Pune Mumbai Rocks In Mumbai

logo
Social Events In A Friend In Need Group In Pune Mumbai Rocks In Mumbai

Hello this is Madhu Vohra who is running 2 successful groups in Mumbai and pune in the name of a friend in need and Mumbai rocks which is a social networking platform with lot of professionals and has lot of activities like karoke,  fashion show, house party, social work, business meet, sports,travel and meet ups and gettogether. We encourage more people to join and make our group rocking.

We do for ppl all over India  too online and offline meet up. Very soon we will start all over the world. Those wanting to join r welcome. Group is for everyone. This is a good platform to bring a smile on people’s face.  You connect with like minded people and make friends for lifetime.

Our group is a family. People of all ages can join. We all respect each other and are neutral and cordial with everyone. We have a ladies group too where we plan events specially for ladies. Those wanting to join contact madhu at 9372436797 or email at vohra.inder@gmail.com.  This group is running successfully for 8 years.

Social Events In A Friend In Need Group In Pune Mumbai Rocks In Mumbai

मॉडल-एक्ट्रेस वंदना भारद्वाज ने बनाया जरूरतमंद बच्चों के लिए म्यूजिक एल्बम “फीड द हंग्री”

logo
मॉडल-एक्ट्रेस वंदना भारद्वाज ने बनाया जरूरतमंद बच्चों के लिए म्यूजिक एल्बम “फीड द हंग्री”

जहा चाह वहां राह, और इसे वंदना भारद्वाज से बेहतर कौन जानता है, सुंदर मॉडल, शानदार प्रतिभाशाली अभिनेत्री, बेसहारा बच्चों और जानवरों के लिए माई हेल्पिंग हैंड्स का नेतृत्व करने वाली एक परोपकारी महिला, एक सफल व्यवसायी महिला और बी 2 सी नेटवर्क- मैरी क्लेयर सैलून, भारत की डायरेक्टर और प्रवक्ता के रूप में, सह-संस्थापक और निदेशक- यूनाइटेड वेगन प्राइवेट लिमिटेड (चार्ली चैपलिन लावेगानो एट अल) वह सक्रिय हैं।

वंदना ने हाल ही में एक दिल को छू लेने वाला इमोशनल म्यूजिक वीडियो एल्बम, फीड द हंग्री (स्ट्रीट किड्स के साथ एक गाना) जारी किया है।

आपको आश्चर्य होगा कि इस खूबसूरत म्युज़िक वीडियो एल्बम को बनाने के लिए वंदना को किस बात ने प्रेरित किया..!!

“मैंने एक गीत “हमदर्द हो जा रे” बनाया है। मैं हमेशा से एक ऐसा गीत बनाना चाहती थी जो वास्तविक हो, प्राकृतिक प्रवाह में हो न कि केवल कल्पना हो। एक समाज सेविका के रूप में, मुझे लगता है कि यह दूसरों को प्रेरित करने के लिए अनिवार्य है और संगीत कई लोगों तक पहुंचने का सबसे अच्छा संभव तरीका है।”

वंदना कहती हैं।

क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि वंदना पहले से ही सामाजिक कार्य क्षेत्र में हैं जिससे उन्हें इस संगीत एल्बम में अधिक स्वाभाविक रूप से भावनाओं को व्यक्त करने में मदद मिली? वंदना कहती हैं, ”देखिए, बच्चे, बुजुर्ग और जानवर हमारे एनजीओ का हिस्सा हैं.

वंदना ने एलबम के लिए बच्चों को किस तरह प्रशिक्षित किया क्योंकि अभिनय पूरी तरह से एक अलग खेल है। “बच्चे मेरे एनजीओ के हैं, इसलिए यह सब वास्तविक है,” उनका तुरंत जवाब आता है।

एल्बम की शूटिंग के दौरान वंदना के अनुभव के बारे में, जिसने उन्हें और अधिक भावुक कर दिया, वह कहती हैं, “बच्चों की आँखों में आनंद देखकर मैं हमेशा भावुक हो जाती हूँ और मुझे लगता है कि मैं सही रास्ते पर हूँ। जानवरों की सेवा करना भी मेरे दिल के करीब है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या कोई अन्य म्युज़िक वीडियो या कोई प्रोजेक्ट पाइपलाइन में है जो वंचित बच्चों, बूढ़ों और जानवरों के मुद्दों को सामने ला सकता है, वंदना कहती हैं, “बिल्कुल हाँ। मैं हर माह के बाद नए गाने बना रही हूँ।”

वंदना अपने व्यस्त व्यावसायिक कार्यक्रम और सामाजिक कार्यों के बीच संतुलन कैसे बना रही है, वंदना कहती हैं, “सामाजिक कार्य हमेशा मेरे दिल के करीब होते हैं और व्यवसाय में हमारे पास बहुत मदद करने वाले हाथ होते हैं..यह एक टीम-वर्क है जो हम में से प्रत्येक के लिए आसान बनाता है। और हाँ, मैं एक काम से दूसरे काम में लगी रहती हूँ। और मुझे थकान नहीं होती। मैं दूसरों की मदद करके खुद को आराम देती हूँ।”

एक सीधी सादी लड़की वंदना भारद्वाज एक बहुमुखी प्रतिभा है जिन्हें आने वाले दिनों में उत्सुकता से देखा जाएगा!

मॉडल-एक्ट्रेस वंदना भारद्वाज ने बनाया जरूरतमंद बच्चों के लिए म्यूजिक एल्बम “फीड द हंग्री”

« Previous Entries

logo
Powered by WordPress | Designed by Elegant Themes